लुटेरे सपने भाग-2

माफ़ कीजियेगा पर शायद कहानी के चक्कर में मैं आपको अपना परिचय कराना ही भूल गया। मेरा नाम अक्षय है और अगर किसी ने मुझसे कभी प्यार किया होता तो शायद मुझे अक्की नाम से बुलाया होता। मुझे घर छोड़े कल 5 साल हो जायेंगे। मेरा घर अभी एक मरे हुए इंसान की जिन्दा कब्र... Continue Reading →

Advertisements

आज मैं उसके हाथों की चाय पी कर आया हूँ ।उलझनों के दरिया में चाहत है बेहिसाब ,उस कश्मकश की दुनिया को छोड़ के आया हूँ ।अब मोहोब्बक्त ना भी रही उन्हें तो जाने दो यार ,आज मैं उसके हाथों की चाय पी कर आया हूँ ।मुमकिन ना था कि दीदार हो नसीब में ,उन... Continue Reading →

लुटेरे सपने- भाग 1

वो शायद मेरी उस शहर में पहली बरसात थी। सब कुछ अपने शहर जैसा ही था पर अलग था। बारिश में वही ठंडक थी पर आज वो चुभ रही थी। तेज़ हवाएं जिनके डर से हम अपनी पतंगे आसमां से उतार लिया करते थे आज मुझसे पूछ रही थी की ये कौनसी नगरी में आशियाना... Continue Reading →

Letters to No One- 02

Everyone cried that day. Even Mr. Harelson, whom everyone believed had no heart and two brains, shed a tear and those new clocks on the old walls tick-tocked clusmily as if they were stopping after every second, wiping their tears in a hurry to get back to their feet to tick-tock again. The unceremonious crying... Continue Reading →

Letter to No One – 01

Gone is everyone: Your ever ready friends who said they will always be there no matter what, Who reassured you of their presence even though you were sitting on the highest peak of the world, Who would always wait for you in the park even though there were no lights, Gone. Your family who taught... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑